January 9, 2019

भारत में स्टार्टअप की सोच, स्थिति और सलाह

By अभय रंजन

भारत में स्टार्टअप का दौर शुरू हो चुका है और वह दिन दूर नहीं है जब हम भारत को स्टार्टअप देश घोषित कर देंगे, क्योंकि यहां बहुत तेजी से स्टार्ट अप की संख्या बढ़ती जा रही है |

भारत में स्टार्टअप की बढ़ती संख्या के पीछे कई कारण है लेकिन मेरी समझ में दो महत्वपूर्ण कारण दिखाई देता है पहला तो आज के “जॉब में बढ़ता दबाव” और दूसरा आज के “युवाओं में बढ़ता जोश और जुनून” या कुछ कर गुजरने की चाहत |

लेकिन हम इस बात से भी पीछे नहीं हट सकते हैं कि भारत में जिस गति से स्टार्ट अप खुलता है उस गति से बंद भी होता है इसके भी पीछे बहुत सारे कारण होते हैं मेरे समझ से दो महत्वपूर्ण कारण है पहला फंडिंग (स्टार्टअप चलाने का पैसा) और दूसरा अव्यवस्थित तौर-तरीका |

क्योंकि भारत में ज्यादातर स्टार्टअप हम किसी और को देखकर शुरू करते हैं, हम पहले से कोई मापदंड तय नहीं करते जो उस स्टार्टअप को भविष्य तक सुरक्षित रख सकें, जो आगे चल के असफलता का कारण बनता है |

दूसरी चीज देखने को मिलती है, स्टार्टअप शुरू करने से पहले हम 6 महीने के बाद की तैयारी को ध्यान में नहीं रखते, मतलब जैसे ही 6 महीने की पैसा का व्यवस्था हुआ, तो हम लोग जोश में आकर स्टार्टअप तो शुरू कर देते, लेकिन जैसे ही वह 6 महीने में पैसे खत्म हो जाते हैं तो उसके बाद स्टार्टअप भी बंद होने के कगार पर आ जाता है, क्योंकि कई ऐसे क्षेत्र है जिसमें स्टार्टअप 6 महीने की मेहनत में सफलता देने की गारंटी नहीं देता |

इसलिए मेरी समझ में स्टार्टअप चलाने की सूची सबसे ऊंचा स्थान “आपके सब्र” को देता हूं,  क्योंकि मेहनत तो सभी कर लेते हैं लेकिन जब स्टार्टअप की राह में असंख्य कठिनाइयां आती है तो अंत में वह हार मान लेते है |

Startup in India .

अलीबाबा के संस्थापक जैक मा का कहना है कि जब आप किसी बिजनेस को शुरू करते हैं तो आज आपका मुश्किल दिन होगा, कल और भी मुश्किल दिन होगा, परंतु परसों सुबह एक नया सूरज आपके जीवन में उदय होगा लेकिन अक्सर लोग कल शाम को ही दम तोड़ देते हैं |

भारत की 5 सबसे वैल्युएबल स्टार्टअप मैं फ्लिपकार्ट, पेटीएम, ओयो रूम्स, ओला, बाईजू आती है और इन सब ने अपने बिजनेस को धीरे-धीरे सब्र के साथ आगे बढ़ाया है |

बाईजू तो आज ही भारत की पांचवी सबसे वैल्युएबल स्टार्टअप कंपनी बनी, इसमें तीन विदेशी निवेशकों ने 3800 करोड़  का निवेश किया, बाईजू एक ऑनलाइन लर्निंग एप है जिसके 2.5 करोड़ यूजर है इसने बेंगलुरु में कोचिंग सेंटर से शुरुआत किया था, 2015 में बाईजू लर्निंग एप की लॉन्चिंग की गई थी, फिर इन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और यह आज देश के टॉप 5 स्टार्टअप की सूची में शुमार हो चुका है |

इसलिए अगर आप स्टार्टअप चला रहे हैं या शुरू करने का सोच रहे हैं तो आपको सबसे पहले एक बेहतर मापदंड बनाना होगा जिसमें स्टार्टअप की सारी पहलू पर विस्तार से रिसर्च करना होगा तभी वह भविष्य में आगे बेहतर मुकाम हासिल कर पाएगा |

एक और महत्वपूर्ण विषय पर बात करना चाहूंगा, भारत में स्टार्टअप के प्रति मानसिकता अच्छी नहीं है, खास तौर  यहां के माता पिता की |

क्योंकि अगर बच्चा घर में स्टार्टअप शुरू करने के लिए सोचता है तो सबसे पहले अपने माता पिता से विरोध झेलना पड़ता है |

उनके तरफ से सहयोग तथा समर्थन बहुत कम ही देखने को मिलता है जो कि स्टार्टअप के विफल होने का एक महत्वपूर्ण कारण भी है |

अगर आपके घर में कोई स्टार्टअप कर रहा है या करने का सोच रहा है तो मेरा आपसे अनुरोध है कि कृपया उसे सहयोग प्रदान करें, आर्थिक नहीं तो कम से कम मानसिक सहयोग अवश्य दें |

क्योंकि उसकी यह उम्मीद रहती है कि काश अपने घर वाले तो साथ दे देते |

यह भारत का दुर्भाग्य है कि आज भी हम लोग नौकरी को प्राथमिकता देते हैं, आप भले ही मामूली पैसे के लिए नौकरी कर रहे तो आप अच्छे हैं और अगर आपने कुछ जोश और जुनून के साथ नया करने का सोचा, स्टार्टअप करने का सोचा तो आप बिल्कुल गलत है, यह हमारी समाज की गलत मानसिकता है |

आपके स्टार्टअप के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं |

सफल जल्द ही स्टार्टअप को सफल बनाने के टिप्स के साथ बेहतर लेख प्रदर्शित करूंगा, हो सके तो Blog के Newsletter subscribe कर ले, ब्लॉग पढ़ने के लिए शुक्रिया |